आज टूटेगा गुरूर चाँद का देखना दोस्तो, आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *