इतनी दूरियाँ ना बढ़ाओ थोड़ा सा याद ही कर लिया करो, कहीं ऐसा ना हो कि तुम-बिन जीने की आदत सी हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *