उसको क्या सज़ा दूं, जिसने मोहब्बत में हमारा दिल तोड़ दिया, गुनाह तो हमने किया, जो उसकी बातो को मोहब्बत का रंग दे दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *