ऐ काश हमारी क़िस्मत में ऐसी भी कोई शाम आ जाए, एक चाँद फ़लक पर निकला हो एक छत पर आ जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *