कतार बहुत लम्बी थी इस लिए सुबह से रात हो गयी, ये दो वक़्त की रोटी आज फिर मेरा अधूरा ख्वाब हो गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *