कभी आंसू कभी ख़ुशी बेची, हम गरीबों ने बेकसी बेची, चंद सांसे खरीदने के लिए रोज थोड़ी सी जिन्दगी बेची।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *