कितना हसीन चाँद सा चेहरा है, उस पर शबाब का रंग गहरा है, खुदा को यकीन न था वफ़ा पर, तभी चाँद पर तारों का पहरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *