कैसे बनाऊँ तेरी यादों से दूरियाँ दो कदम जाकर सौ कदम लौट आती हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *