क्यों बरसों से जुदाई का गम लैला और हीर सह रही हैं, जरा अपना रुमाल तो देना मेरी नाक बह रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *