गम की इन अंधेरी रातो में दिल को तू न बेकरार कर, ऐ नादान ! सुबह ज़रूर आएगी, तू सुबह तक का तो इंतेज़ार कर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *