घर में चूल्हा जल सके इसलिए कड़ी धूप में जलते देखा है, हाँ मैंने गरीब की सांस को गुब्बारों में बिकते देखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *