तारों में अकेला चाँद जगमगाता है, मुश्किलों में अकेला इंसान डगमगाता है, काटों से घबराना मत मेरे यारो, क्योंकि काटों में ही अकेला गुलाब मुस्कुराता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *