दिल तोड़ कर हमारा तुमको राहत भी न मिलेगी, हमारे जैसी तुमको कहीं चाहत भी न मिलेगी, यूँ इतनी बेरुखी न दिखलाइये हमें, हम अगर रूठे तो हमारी आहट भी न मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *