देखा है तुम्हारे आगे, शर्मा के फूलों को मुरझाते, ए जहाँ को घायल करने वाले तुम डिओडोरेंट क्यों नहीं लगाते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *