प्यार तो हमें भी करना था, पर कुछ ख़ास नहीं हुआ, ताजमहल तो हमें भी बनना था, पर अफ़सोस के लोन पास नहीं हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *