मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर, कर हौसला खुली फिजाओं में उड़ान का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *