मन की दूरियां कुछ बढ़ सी गयी हैं लेकिन तेरे हिस्से का वक़्त आज भी तनहा गुजरता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *