ये शायरी की महफ़िल बनी है आशिकों के लिये, बेवफाओं की क्या औकात जो शब्दों को तोल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *