सुबह हुई कि… छेड़ने लगता है सूरज मुझको, कहता है बड़ा नाज़ था अपने चाँद पर अब बोलो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *