हो के तुम मेरे मुझको मुकम्मल कर दो, अधूरे-अधूरे अब हम ख़ुद को भी अच्छे नहीं लगते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *