अंदर से तो कब के मर चुके है हम ए मौत तू भी आजा लोग सबूत मांगते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *