आसमान के परे मुकाम मिल जाए, रब को मेरा ये पैगाम मिल जाए, थक गयी है धड़कनें अब तो चलते चलते, ठहरे सांसे तो शायद आराम मिल जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *