कुछ बोलूं तो इतराते बहुत हो, जानेमन तुम मुस्कुराते बहुत हो, मन करता है तुम्हे दावत पर बुलाऊँ, लेकिन जानेमन तुम खाते बहुत हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *