चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह, नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह, ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह, अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *