चैन तो छिन चुका है अब बस जान बाकी है, अभी मोहब्बत में मेरा इम्तेहान बाकी है, मिल जाना वक़्त पर ऐ मौत के फ़रिश्ते, किसी को गिला है किसी का फरमान बाकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *