दिल से अगर दे तो ​नफरत​ भी कबूल है​, खैरात में तो तेरी मोहब्बत भी मंजूर नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *