मेरा और चाँद का मुक़द्दर एक जैसा है, वो तारो में अकेला मैं हजारो में अकेला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *