मेरी ख़ुशी के लम्हे इस कदर मुख़्तसर हैं फ़राज़, अभी मुजरा शुरू ही हुआ था के छापा पड़ गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *