वो चाँद कह के गया था कि आज निकलेगा, तो इंतिज़ार में बैठा हुआ हूँ शाम से ही मैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *