फ़ेक रहे तुम खाना क्योंकि, आज रोटी थोड़ी सूखी है, थोड़ी इज्ज़त से फेंकना साहेब, मेरी बेटी कल से भूखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *