फ़क़ीर मिज़ाज़ हूँ, मै अपना अंदाज़ औरों से जुदा रखती हूँ, लोग मस्जिदो मे जाते है, मै अपने दिल मे ख़ुदा रखती हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *